LYRIC

Kabhi Nahi Adnan Sami | Tera Chehra | Feat. Amitabh Bachchan

Maula Kabhi Mujhe Chhodna Kabhi Nahi
Bhula Tera Ehasaan Mai Kabhi Nahi
Kiya Tune Jo Mana Kiya Kabhi Nahi
Kabhi Kisi Ko Phasaya Kabhi Nahi
Kabhi Rishavat Khaai Hai Kabhi Nahi
Kabhi Jhut Maine Bolaa Hu Kabhi Nahi
Tere Ghar Me Adher Hai Kabhi Nahi

Maula Kabhi Mujhe Chhodna Kabhi Nahi
Bhula Tera Ehasaan Mai Kabhi Nahi
Kiya Tune Jo Mana Kiya Kabhi Nahi
Kabhi Kisi Ko Phasaya Kabhi Nahi
Kabhi Rishavat Khaai Hai Kabhi Nahi
Kabhi Jhut Maine Bolaa Hu Kabhi Nahi
Tere Ghar Me Adher Hai Kabhi Nahi
Maula Kabhi Mujhe Chhodna
Kabhi Nahi Bhula Tera
Are Chhod Na Yaar

Maan Hai Par Daam Nahi Hai
Bikri Hai Par Kaam Nahi Hai
Ham Kare Koi Aisi Padhaai
Jis Se Ghar Me Aae Kamaai
Digari Hai Bas Naam Ki Maula
Apane Ye Kis Kaam Ki Maula
Jo Mujhe Hai Naukari Paani
Hogi Unchi Pahuch Lagaani
Kabhi Daidi Se Chhupaya Hai Kabhi Nahi
Kabhi Chiting Ki Tune Kabhi Nahi
Kabhi Masaka Lagaya Hai Kabhi Nahi
Kabhi Guru Ko Sataya Hai  Kabhi Nahi
Kabhi Tichar Ne Mara Hai Kabhi Nahi
Kabhi Jhut Maine Bolaa Hai Kabhi Nahi
Tere Ghar Me Adher Hai Kabhi Nahi
Maula Kabhi Mujhe Chhodna Kabhi Nahi
Bhula Tera Ehasaan Mai
Kabhi Nahi Kabhi Nahi
Kabhi Nahi

Puchho Na Puchho Na Kaisaa Kyaa
Shaadi Kaa Laddu Hai Aisaa Waah
Jo Na Khaae Vo Lalachaae Kyaa Baat Hai
Khaane Vaalaa Bhi Pachhataae
Aashiqi Romaas Ki Baate
Ye To Hai Sab Chaans Ki Baate
Na Lagaanaa Khud Pe Paharaa
Baadh Lenaa Sar Pe Saharaa
Kabhi Biwi Ko Ghumaayaa Hai Kabhi Nahi
Kabhi Biwi Se Chhupaya Hai Kabhi Nahi
Kabhi Biwi Ko Rulaayaa Hai Are
Kabhi Biwi Ne Nikaalaa Hai
Amaa Kyaa Bol Rahaa Hai Yaar
Kabhi Biwi Ne Pitaa Hai
Amaa Kyaa Kar Rahaa Hai Yaar
Kabhi Jhut Maine Bolaa Hai
Kabhi Nahi

 

Maula Kabhi Mujhe Chhodna Kabhi Nahi
Bhula Tera Ehasaan Mai Kabhi Nahi
Kiya Tune Jo Mana Kiya Kabhi Nahi
Kabhi Kisi Ko Phasaya Kabhi Nahi
Kabhi Rishavat Khaai Hai Kabhi Nahi
Kabhi Jhut Maine Bolaa Hu Kabhi Nahi
Tere Ghar Me Adher Hai Kabhi Nahi.

Translated Version

मौला कभी मुझे छोड़ना
कभी नहीं
भूला तेरा एहसान मैं
कभी नहीं
दिया तूने जो मना किया
कभी नहीं
कभी किसी को फसाया है
कभी नहीं
कभी रिश्वत खाई है
कभी नहीं
कभी झूठ मैं बोला हूँ कभी नहीं
तेरे घर में अंधेर है कभी नहीं
मौला कभी मुझे छोड़ना कभी नहीं
भूला तेरा एहसान मैं कभी नहीं
दिया तूने जो मना किया कभी नहीं
कभी किसी को फसाया है कभी नहीं
कभी रिश्वत खाई है कभी नहीं
कभी झूठ मैं बोला हूँ कभी नहीं
तेरे घर में अंधेर है कभी नहीं
मौला कभी मुझे छोड़ना कभी नहीं
भूला तेरा एहसान मैं कभी नहीं(कभी नहीं, कभी नहीं, कभी नहीं)
अरे छोड़ ना यार
माल है पर दाम नहीं है
डिग्री है पर काम नहीं है
हम करें कोई ऐसी पढ़ाई
जिस से घर में आए कमाई
डिग्री है बस नाम की मौला
अपने ये किस काम की मौला
जो मुझे है नौकरी पानी
होगी ऊंची पहुँच लगानी
कभी daddy से छुपाया है कभी नहीं
कभी cheating की तूने कभी नहीं
कभी मस्का लगाया है कभी नहीं
कभी गुरु को सताया है कभी नहीं
कभी teacher ने मारा है कभी नहीं
कभी झूठ मैंने बोला है कभी नहीं
तेरे घर में अंधेर है कभी नहीं
मौला कभी मुझे छोड़ना कभी नहीं
भूला तेरा एहसान मैं कभी नहीं(कभी नहीं कभी नहीं कभी नहीं)
पूछो ना पूछो ना कैसा, आ हाँ
शादी का लड्डू है ऐसा, वाह
जो ना खाये वो ललचाये (क्या बात है)
खाने वाला भी पछताए
आशिकी romance की बातें
ये तो हैं सब chance की बातें
ना लगाना खुद पे पहरा
बांध लेना सर पे सेहरा
कभी बीवी को घुमाया है कभी नहीं(हाह)
कभी बीवी से छुपाया है कभी नहीं(हा)
कभी बीवी को रुलाया है(अरे)
कभी बीवी ने निकाला है(अमा क्या बोल रहा है यार)
कभी बीवी ने पीटा है(अमा क्या कर रहा है यार)
कभी झूठ मैंने बोला है कभी नहीं
तेरे घर में अंधेर है कभी नहीं
मौला कभी मुझे छोड़ना कभी नहीं
भूला तेरा एहसान मैं कभी नहीं
दिया तूने जो मना किया कभी नहीं
कभी किसी को फसाया है कभी नहीं
कभी रिश्वत खाई है कभी नहीं
कभी झूठ मैं बोला हूँ कभी नहीं
तेरे घर में अंधेर है कभी नहीं

Added by

ratan

SHARE

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.